☀जय सियाराम☀

 
☀जय सियाराम☀
नाहिंन और कोउ सरन लायक दूजो श्रीरधुपति -सम बिपति -निवारन। काको सहज सुभाउ सेवकबस , काहि प्रनत परप्रीति अकारन।1। जन-गुन अलप गनम सुमेरू करि, अवगुन कोटि बिलोकि बिसारन। परम कृपालु , भगत -चिंतामनि , बिरद पुनीत, पतितजन-तारन।2। सुमिरत सुलभ, दास -दुख सुनि हरि चलत तुरत , पटपीत सँभार न । साखि पुरान-निगम-आगम सब, जानत द्रुपद-सुता अरू बारन।3। जाको जस गावत कबि-कोबिद, जिन्हके लोभ-मोह , मद -मार न। तुलसिदास तजि आस सकल भजु, कोसलपति मुनिबधू- उधारन।4।
キーワード:
 
shwetashweta
アップした人: shwetashweta

この写真を評価してね:

  • 現在 5.0/5.0☆
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5

1 投票.